एक ऐसा शक्स जो कभी हार नहीं मानता। आखरी कोशिश के बाद भी एक चांस लेना पसंद करता है। पत्रकार बना क्योंकि समय की नजाकत थी। अच्छा लिख लेता हूँ, क्योंकि शौक को अपना प्रोफेशन बनाया। खुद पर यकीं है और मुझे नहीं लगता कि कोई ऐसा काम है, जिसे मैं नहीं कर सकता। अपने फैसलों पर टिके रहना मेरी आदत है।

Monday, April 13, 2009

मंजिल के मददगार


देश के प्रतिष्ठित व्यावसायिक घरानों को जब सरकारी ताले खोलने होते हैं, तो उन्हें इन हुनरमंद चाबियों की जरूरत होती है। हुनरमंद चाबियां यानी 'कॉर्पोरेट जुगाड़'। ऐसे जुगाड़ जो किसी भी बड़ी कंपनी में ना नहीं सुनने वाले शीर्ष प्रबंधकों की हर व्यावसायिक मांग को पूरा करवाते हैं। सरकारी 'जुगाड़' लगाने, फाइलों पर चलने वाली ऐसी कलम जो करोड़ों का नुकसान करवा सकती है को मैनेज करने, देश चलाने वाले नेताओं से शीर्ष कॉर्पोरेटर्स की मुलाकातें करवाकर अहम फैसले करवाने और लॉबिंग में इनकी सबसे अहम भूमिका होती है। मीडिया से लेकर हर उस संसाधन का इस्तेमाल यह बेहतरी से करना जानते हैं, जिनकी जरूरत कॉर्पोरेट घरानों को कदम-कदम पर पड़ती है। अंबानी, टाटा सहित बड़े राजनेता इनके मार्गदर्शन पर अपने फैसले लेते और बदलते हैं।

6 comments:

ajay kumar jha said...

kamaal kee jaankaaree de hai, nisandeh yahee hotaa hai vyaavsaayik neetiyon ko tay karne mein, aapkaa blog bhee khoobsurat hai, likhte rahein.

DUSHYANT said...

bahut khoob barkhurdaar

Suchita Maheshwari said...

acha likha hai......infact jin logo ko shamil kiya isme unka chunaav acha rha. ye saare log hi to hai jo raajnetao ki thodi si lagaam pakadne koshish kar sakte hai...varna or koi soch bhi skata hai....

अमिताभ श्रीवास्तव said...

pahli baar aayaa aapke blog par, achcha laga ...jaankaari bhi aour aapke likhne ki sheli bhi achchi he.
badhaai

डॉ दुर्गाप्रसाद अग्रवाल said...

बहुत मेहनत से लिखा गया आलेख. मज़ा आ गया.
वैसे प्रवीण जी, आज़ादी के बाद हर क्षेत्र में इस तरह के लोगों की एक पौध पनपी है. मुझे याद आता है कि मैं जब सेवा निवृत्त हुआ था तो मेरे पास भी नौकरी के अनेक प्रस्ताव आए थे. पद नाम चाहे जो भी हो, नौकरी देने वालों की अपेक्षा यही थी कि मैं उनका 'मददगार' बनूं. अगर थोड़ा घटिया शब्द काम लेने की इच्छा हो तो दलाल या दल्ला भी कह सकते हैं.

प्रवीण जाखड़ said...

दुष्यंत जी आपको अपने चिट्ठे पर पाकर बेहद अच्छा लगा। अजय जी, दुर्गाप्रसाद जी , शुचिता और अमिताभ जी हौसला अफजाही के लिए आभार। वैसे दुर्गाप्रसाद जी आपने सही कहा, ऐसी पौध बड़े पैमाने पर पनपी है और पनप रही है। मुझे लगता है इस देश में जुगाड़ कभी खत्म नहीं होंगे। भले ही हम किसी भी सदी के रहने वाले हों।

 
Design by Wordpress Theme | Bloggerized by Free Blogger Templates | coupon codes