एक ऐसा शक्स जो कभी हार नहीं मानता। आखरी कोशिश के बाद भी एक चांस लेना पसंद करता है। पत्रकार बना क्योंकि समय की नजाकत थी। अच्छा लिख लेता हूँ, क्योंकि शौक को अपना प्रोफेशन बनाया। खुद पर यकीं है और मुझे नहीं लगता कि कोई ऐसा काम है, जिसे मैं नहीं कर सकता। अपने फैसलों पर टिके रहना मेरी आदत है।

Saturday, October 10, 2009

वो शमा क्या बुझे जिसे रौशन खुदा करे...


मैं 18 स्वर्ण पदक जीतने वाली तैराक (नताले डू टॉएट) हूँ। मेरा सिर्फ एक पैर सलामत है। ओलंपिक और कॉमनवेल्थ खेलों में अपने खेल का लोहा मनवाने के बाद अब मैं 2012 में लंदन में होने जा रहे ओलंपिक की तैयारियों में जुटी हूँ। वह 25 फरवरी, 2001 की सुबह थी, जब मैंने अपना बायां पैर केपटाउन (दक्षिण अफ्रीका) में एक कार एक्सीडेंट में खो दिया। मैं हर रोज की तरह अपने स्कूटर पर तैराकी की प्रैक्टिस के लिए स्कूल जा रही थी। एक कार ने मेरे स्कूटर को टक्कर मारी और मेरा बायां पैर टूट गया। पैर की हड्डियां और मांसपेशियां कुछ इस तरह कार से कुचल गईं, जिन्हें जोड़ पाने में डॉक्टर भी असमर्थ थे। हादसे के सातवें दिन डॉक्टरों ने मेरा पांव घुटने से काट दिया था। चौदह बरस की उम्र में मैंने उस पांव को खो दिया, जिसकी मेरी जिंदगी और तैराकी में भी खासी अहमियत थी। इससे पहले क्वालालांपुर में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स (1998) में मैं तैराक के तौर पर भाग ले चुकी थी। ...लेकिन मेरी आगे की कहानी एक नई शुरुआत के साथ बुनी जानी थी।


हादसे के बाद मैंने ढेर सारी मुश्किलों का सामना किया। कभी खुद को विकलांग नहीं समझा, लेकिन कदम-कदम पर जूझना पड़ा। अपने सामथ्र्य में जितना था मैंने किया। सिर्फ एक सपना पाला कि 'मैं सब कुछ कर सकती हूँ। सब कुछ करूंगी।' हादसे के पांच महीने बाद मैं वापस स्वीमिंग पूल में लौटी और सालभर बीतते-बीतते मैंने अपने आधे पांव को साथ लेकर तैरना सीख लिया। इसी समय मैनचेस्टर में हो रहे कॉमनवेल्थ गेम्स में मैंने डिसेबल्ड स्विमर्स की श्रेणी में 50, 100 और 800 मीटर तैराकी में भाग लिया। यहीं मुझे 'डेविड डिक्सन अवॉर्ड' आउटस्टैंडिंग एथलीट ऑफ द गेम्स के तौर पर दिया गया। इंग्लैंड के विस्टा नोवा स्कूल के विकलांग बच्चों की मदद के लिए भी मैंने कई तैराकी प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया। जोहांसबर्ग में आयोजित इस प्रतियोगिता में 12-13 डिग्री ठंडे पानी और शार्क के बीच साढ़े सात किमी। तक तैराक को पानी में जूझना होता है। मैंने 7.5 किमी. की ओपन वॉटर स्विम को 1:35:45 घंटे में पूरा करके विश्व रिकॉर्ड भी बनाया है। 2003 के एफ्रो एशियन गेम्स में मुझे रजत और कांस्य पदक भी मिला है। फ्रीस्टाइल तैराकी की कॉमनवैल्थ और पैराओलंपिक प्रतियोगिताओं में भी मैं हिस्सा ले चुकी हूँ। 2006 में मैंने चौथी आईपीसी वल्र्ड स्विमिंग चैंपियनशिप में भी छह स्वर्ण पदक जीते। बीजिंग ओलंपिक (2008) में 10 किलोमीटर ओपन वॉटर स्विमिंग रेस में मैंने हिस्सा लिया और मैं सोलहवें नंबर पर रही। यहीं बीजिंग के पैराओलंपिक में मैंने पांच स्वर्ण पदक जीते।


दक्षिण अफ्रीका के ब्रॉडकास्ट कॉर्पोरेशन की ओर से कुछ समय पहले जारी टॉप 100 ग्रेट साउथ अफ्रीकंस की सूची में मुझे 48वां स्थान मिला। मुझे 2008 के समर ओलंपिक्स की ओपनिंग सेरेमनी में अपने देश का झंडा पकडऩे वाले खिलाड़ी के तौर पर भी चुना गया। अब मैं लंदन (2012) में होने जा रहे ओलंपिक की तैयारी में जुटी हूँ। जो दर्द और वक्त की मार मैंने झेली है वह आसानी से मुझे तोड़ सकती थी, लेकिन अब मेरा भरोसा और मजबूत हो गया है। अब मैं पूरे भरोसे के साथ कह सकती हूँ, 'अगर मैं सपना पूरा कर सकती हूँ, तो कोई भी कर सकता है।'

16 comments:

Ratan Singh Shekhawat said...

सलाम है इनकी हिम्मत और जज्बे को |

Rakesh Singh - राकेश सिंह said...

नताले डू टॉएट के जज्बे को सलाम करता हूँ |

इश्वार इन्हें नै ऊर्जा दें ...

अन्तर सोहिल said...

"अगर मैं सपना पूरा कर सकती हूँ, तो कोई भी कर सकता है।"

इनकी हिम्मत, हौसला और आत्मविश्वास एक मिसाल है
प्रणाम

Dr. Jitendra Bagria said...

काबिले तारीफ़ है !!

प्रकाश पाखी said...

jajbe ko salaam!

Ashish Khandelwal said...

jazbe ko salaam

happy blogging :)

गंगू तेली said...

Praveen Bhaai,

Naresh Arya se suna to tha aapke baare me, Aaj dekh bhi li aapki Kaarigari....

Badhaai ho...

http://gangu-teli.blogspot.com

S B Tamare said...

प्रवीनजाखड जी !

आपके सात यक्ष प्रश्नों के उत्तर मैंने तैयार कर shashibhushantamare-jyotishbole.blogspot.कॉम और shashibhushantamare-kpsystem.blogspot.com पर पोस्ट कर दिए है / उम्मीद है आपके पैमानों पर मेरे जवाब आपको संतुस्ट कर पावेंगे /थैंक्स.

हस्ताक्षर -shashibhushantamare

राजीव तनेजा said...

इनके जज़्बे और हिम्मत को सलाम...

अवधिया चाचा said...

aapki bhi himmat aur jazbe ko salam, hamare dhan ke desh men ghoomne zaroor aayiga.aapko sammanit kiya jayega..tujhe master ji ki kasam zaroor aana.

धान के देश में
http://dhankedeshmen.blogspot.com/

Mohammed Umar Kairanvi said...

ठीक कहा वह शामा क्‍या बुझे जिसे रौशन खुदा करे, परन्‍तु वह संगीत तो बज रहा है, जिसे आपने बजाना छोड दिया था उसका किया हुआ, आपको 7 जवाब मिल गये कि नहीं, मेरा मतलब आपको कबूल हैं तो बताओ ना कबूल हो तो बताओ, अपन तो दोनों तरह साथ हैं, सदैव

आपके मिल गये हों तो फिर मैं अपने सवालों की मांग के लिये किसी ब्लाग पर लिख दूं मैं 7 दिनों के लिये मौन रख रहा हूं, आपसे क्‍या छुपा बडे महान लोग अपना कहा मानते हैं,
हालांकि 1 का तो मुझे पता है यह लिखकर हनीमून पर गया है, मुझे नहीं बुलाया इस लिये यहां लिख रहा हूं (अनुमान से)

शरद कोकास said...

प्रवीण भाई मै तो नतमस्तक हूँ ।

Suman said...

दीपावली, गोवर्धन-पूजा और भइया-दूज पर आपको ढेरों शुभकामनाएँ!

S B Tamare said...

प्रवीन जी !

आगमन का और फिर आंकलन का शुक्रिया !

आपने साहस पूर्वक जो सवाल किये और मेरे ब्लॉग पर प्रतिक्रिया दी वो सभी सराहनीय है / परन्तु इस सारे क्रम में ज्योतिष का कितना भला हुआ और कितना बुरा यह सवाल अनसुलझा सिसकता रह गया मुझे मालूम देता है / खैर , आपने चुनौती खडी की और मैंने अपनी तरह से भलेही आधा या पूरा जवाब दिया वक्ती तौर पर मामला शांत होगया जान पड़ता है / जवाब कितने सच है अब यह तो समय ही बतावे गा / अलबता १६ -१० -२००९ को लाहोर पाकिस्तान में आतंकवादियों ने पांच भिन्न भिन्न स्थानों पर हमला बोल ४१ लोगो की जान लेकर मेरी एक भविष्य वाणी तो सच कर दी है बांकी और आगे देखते है क्या होता है !

यधपि मै आपको बताना चाहूँगा की २५ से भी ज्यादा वर्षो में जीतनी भी तपस्या मैंने ज्योतिष को काबू में करने के लिए मैंने की है यदि उसका आधा श्रम मैंने डाक्टर या ईंजिनियेर बनने के लिए कर दिया होता तो आज एक नामचीन होता फिर भी कोई मुझसे मेरी रजा पूछे तो हर जन्म में ज्योतिषी ही बनाना चाहूँगा / फिर भी मै कबूलता हूँ की दूसरे धंधो की बनिस्पत ज्योतिष में भ्रष्ट लोगो ने कम पैठ बना ली है / फिर भी ज्योतिष माफ़ी लायक है क्यों की जन्हा लोग दूध घी मशाले दवा और ना जाने किन किन चीजो में नामुराद चीजे मिलावट कर के पैसे बना रहे है वन्ही ज्योतिष में भ्रष्टता कुछ भी नहीं यधपि पाप तो पाप ही है /

पुनश्च , आपने मेरे ब्लॉग के बारे में दो सुझाव दिए जो चुकी मेरे फायदे के लगे लिहाजा मैंने फौरन मान लिए है / मैंने '' ज्योतिष बोले '' का टेम्पलेट बदल दिया है तथा कमेन्ट पर से वैरी फिकेशन की रोक भी हटा दी है / उम्मीद है लाभदायक साबित होगा /कृप्या आप दोनों विषयों का जांच कर बतावे गे तो मै बांकी के अन्य ब्लोगों पर भी यही प्रक्रिया लागू कर दूंगा /

एक बार फिर से थैंक्स/

S B Tamare said...

आदमी और देवता में केवल ''परम'' शब्द का अंतर होता है / यानि दोनों में ''आत्मा '' होती है /

आदमी आपने अथक प्रयासों से , साहस से वो फासला भी खत्म कर सकता है -इसी का उदाहरण आपने अपने पोस्ट से पेश किया है जो हर हारते को ताकत देगा / थैंक्स अ लोट /

S B Tamare said...

प्रवीन जी !

आपके सम्मान पूर्ण शब्दों ने दीपावली का मजा दोगुना करदिया , मै तहेदिल से आपको शुक्रिया बोलता हूँ /

एक बात जो मै बे-लौस कबूलना चाहता हूँ की जब मै ''सात सवालों '' की ड्राफ्टिंग कर रहा था तो आपको और अन्य दूसरे ब्लोगरो के विचार आपके ब्लॉग पर पढ़ कर भारी आक्रोश में था परन्तु जिस सहजता से आपने मुझे निपटाया है यह मेरे लिए हैरत अंगेज है / मै आपके तस्बूर भरे व्यवहार को फिर से शुक्रिया अदा करता हूँ / दीपावली मुबारक हो /

 
Design by Wordpress Theme | Bloggerized by Free Blogger Templates | coupon codes