एक ऐसा शक्स जो कभी हार नहीं मानता। आखरी कोशिश के बाद भी एक चांस लेना पसंद करता है। पत्रकार बना क्योंकि समय की नजाकत थी। अच्छा लिख लेता हूँ, क्योंकि शौक को अपना प्रोफेशन बनाया। खुद पर यकीं है और मुझे नहीं लगता कि कोई ऐसा काम है, जिसे मैं नहीं कर सकता। अपने फैसलों पर टिके रहना मेरी आदत है।

Thursday, November 19, 2009

घोटालों का राज !


ब्लैक डॉलर घोटाला

इसे अंजाम देने वाले किसी बैंक के वास्तविक लगने वाले जाली दस्तावेजों के जरिए लेनदेन का अंतरराष्ट्रीय प्रयास करते हैं। यह दस्तावेज इतनी सफाई से तैयार किए जाते हैं कि बैंक से जुड़े लोग भी असली-नकली का फर्क पहचान नहीं पाते। इन दस्तावेजों के आधार पर खाताधारक से पूरी जानकारी जुटा ली जाती है और उसके खाते से हैकिंग के जरिए पैसा गायब कर दिया जाता है, जिसका इस्तेमाल आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए होने वाली फंडिंग में किया जाता है। व्यापारिक लेनदेन के नाम पर बनने वाले जाली एग्रीमेंट भी इसी घोटाले के तहत आते हैं।

लोटो लॉटरी घोटाला
बिना लॉटरी का टिकट खरीदे ही 1 से 10 लाख मिलियन डॉलर या इससे अधिक का जैकपॉट खुलने का झांसा ई-मेल के जरिए दिया जाता है। बदले में पूरा नाम, घर का पता, बैंक खाते का नंबर, क्रेडिट कार्ड का नंबर और पासपोर्ट की जानकारी मांग ली जाती है। किसी भी व्यक्ति की गोपनीय जानकारियों को जुटाकर उसके बैंक खाते को हैक किया जाता है और उसकी रकम एक स्थानीय या अंतरराष्ट्रीय फर्जी बैंक खाते में ट्रांसफर कर दी जाती है। जहां से उसे अगले 24 घंटे में गायब कर दिया जाता है।

419 घोटाला
यह नाइजीरियन क्रिमिनल कोड है। नाइजीरिया से जुड़े अपराधी इसे विश्वभर में भेजते हैं और लुभावने अवसर का झांसा देते हैं। इसमें नौकरी, यात्रा और बड़े धन का झांसा दिया जाता है। इंटरनेट के जरिए इसे चलाने वाले विश्वभर में सर्वाधिक नाइजीरिया के लागोस में हैं। इस घोटाले को अंजाम देने पर जालसाजी से मिलने वाले धन का इस्तेमाल मादक पदार्थों (हेरोइन, कोकीन व हशिश शामिल) की युरोप, दक्षिण अफ्रीका, पूर्वी एशिया और उत्तरी अमरीका में तस्करी, आतंकवादियों के लिए सहायतार्थ फंडिंग और मुद्रा के गैर-कानूनी लेनदेन के लिए किया जाता है। मादक पदार्थों की तस्करी और धन के गैर-कानूनी लेनदेन में भारत तस्करी और दलाल अहम भूमिका निभाते हैं। यह जाल नाइजीरिया, बेनिन, पश्चिम अफ्रीका स्थित कोटे डी लेवोर, टोगो, एम्सटर्डम, फिलीपींस, स्विटजरलैंड, लंदन में बड़े पैमाने पर फैला है।

(कल - 'लॉटरी 40 करोड़ की, मिले 7 रुपए 20 पैसे' में जरूर मिलें उस व्यक्ति से जिसे फर्जी ई-मेल ही नहीं फर्जी चेक भी मिला।)

4 comments:

Udan Tashtari said...

सही पोल खोल रहे हैं. जारी रहिये!!

Suman said...

nice

अर्शिया said...

ये घोटालोंका देश है। यहाँ घोटालों की जाँच में भी घोटाला हो जाता है।
--------
क्या स्टारवार शुरू होने वाली है?
परी कथा जैसा रोमांचक इंटरनेट का सफर।

Ratan Singh Shekhawat said...

बढ़िया पोल खोल रहे हो | कुछ तो जागृति आएगी और लोग इन घोटाले बाजो से बचेंगे |

 
Design by Wordpress Theme | Bloggerized by Free Blogger Templates | coupon codes