एक ऐसा शक्स जो कभी हार नहीं मानता। आखरी कोशिश के बाद भी एक चांस लेना पसंद करता है। पत्रकार बना क्योंकि समय की नजाकत थी। अच्छा लिख लेता हूँ, क्योंकि शौक को अपना प्रोफेशन बनाया। खुद पर यकीं है और मुझे नहीं लगता कि कोई ऐसा काम है, जिसे मैं नहीं कर सकता। अपने फैसलों पर टिके रहना मेरी आदत है।

Tuesday, February 10, 2009

हीरे की हेराफेरी

हीरा नकली है या असली? वह कहां से आया है और कहां जाने वाला है, बाजार में कोई नहीं जानता। हीरों की तस्करी में सरकारी मिलीभगत से इसकी चमक फीकी पड़ रही है। हीरा तस्करी के फैलते नेटवर्क की पड़ताल करती विशेष रिपोर्ट।

(इस खबर को पूरा पढऩे के लिए इमेज पर क्लिक करें)

0 comments:

 
Design by Wordpress Theme | Bloggerized by Free Blogger Templates | coupon codes