एक ऐसा शक्स जो कभी हार नहीं मानता। आखरी कोशिश के बाद भी एक चांस लेना पसंद करता है। पत्रकार बना क्योंकि समय की नजाकत थी। अच्छा लिख लेता हूँ, क्योंकि शौक को अपना प्रोफेशन बनाया। खुद पर यकीं है और मुझे नहीं लगता कि कोई ऐसा काम है, जिसे मैं नहीं कर सकता। अपने फैसलों पर टिके रहना मेरी आदत है।

Saturday, April 4, 2009

विकास की ओर...

रूरल इंडस्ट्रीयल डेवल्पमेंट के लिए समर्पित डॉ. महर्षि वित्त जगत में खासा दखल रखते हैं। लघु उद्योग के पक्षधर और कृषि को अर्थव्यवस्था का आधार मानने वाले डॉ. महर्षि की शोसियो इकोनॉमिक डेवल्पमेंट में भी खास दिलचस्पी है। ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स के निदेशक के तौर पर वे न केवल बैंकिंग को ग्रामीण विकास से जोडऩे में जुटे हैं, बल्कि आम व्यवसायी तक उसकी पहुंच आसान बनाने के लिए भी उनकी कोशिशें रंग ला रही हैं। हाल ही एक कोलकाता से जयपुर आए डॉ. महर्षि से मुलाकात का मौका मिला।

6 comments:

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) said...

बहुत अच्छा लगा डॉ. महर्षि के बारे में जानना.. आभार

संगीता पुरी said...

डॉ. महर्षि के बारे में जानकारी देने के लिए शुक्रिया।

डॉ दुर्गाप्रसाद अग्रवाल said...

प्रवीण भाई, डॉ महर्षि के बारे में आपके इण्ट्रो में एक बात खटकी. आपने एक भी जगह उनका पूरा नाम नहीं दिया. देते तो अच्छा रहता.

Dileepraaj Nagpal said...

padha tha humne bhi. shukriya

TARUN JAIN said...

aapki stories lajawaab hai maaf kijiega aapki tabiyat ke bare me blog se pata chala ab kaise hai aap

Harsh said...

post achchi hai ......

 
Design by Wordpress Theme | Bloggerized by Free Blogger Templates | coupon codes